You don't have javascript enabled. Please Enabled javascript for better performance.

नर्मदा के सभी तटीय क्षेत्रों को नशामुक्त करना है

सामाजिक न्याय एवं निःशक्तजन कल्याण विभाग प्रदेश में सामाजिक ...

See details Hide details

सामाजिक न्याय एवं निःशक्तजन कल्याण विभाग प्रदेश में सामाजिक सहायता, निःशक्त कल्याण व सुधारात्मक सेवा के क्षेत्र में निरन्तर कार्यरत है। विभाग की योजनाओं के बारे में अधिक जानकारी के लिए यहां क्लिक करें

इसी क्रम में विभाग नर्मदा नदी के समस्त तटीय क्षेत्रों को पूर्णतः नशामुक्त करने की दिशा में कार्य कर रहा है। विभाग द्वारा संचालित नशामुक्ति योजना में प्रचार-प्रसार के माध्यम जैसे- नाटक, रैली, संवाद, चित्रकला, लोक कलाओं का उपयोग किया जा रहा है। वहीँ दूसरी ओर; साहित्य एवं सांस्कृतिक दलों के कार्यक्रमों से लोगों को जागरूक कर, नशामुक्ति के पक्ष में जनमत निर्माण का कार्य करना है।

‘नर्मदा के तटीय क्षेत्रों की नशा मुक्ति’ के इस अभियान में आप भी सहभागी हो सकते हैं। विभाग आपसे इस अभियान को सफल बनाने के लिए सुझाव आमंत्रित करता है।

आप सुझाएँ कि हम इस नशा मुक्ति अभियान द्वारा अधिक से अधिक लोगों को कैसे जागरूक कर सकते हैं? आप अपने सुझाव और प्रतिक्रियाएं नीचे कमेन्ट बॉक्स में दे सकते हैं।

All Comments
Reset
27 Record(s) Found

BRAJESH KUMAR DHAKAR 4 days 1 hour ago

आज तो बस होना ये हिसाब जरूरी है,
शराब जरूरी है या किताब जरूरी है।

2. आज नहीं सुधरा जो तू तो अंत काल पछताएगा,
आज नशा जो खाता तू है, कल तुझको नशा ये खायेगा।

3. नशा जो करता है इन्सान, बन जाता है बेईमान,
इज्ज़त न रहती उसकी और न ही रहता धर्म ईमान।

4. नशे की कैसी लत ये देखो, बिगड़ी देश की हालत है,
वो क्या समझें गर्व देश का जो खुद में इक लाहनत है।

5. किसी घर का चिराग न बुझने पाए,
नशे की आग को हम जो बुझायें।

6. छोड़ो, नशे को त्यागो तुम,
होश में आओ जागो तुम।

Ramakrishna Lakshmanan 4 days 1 hour ago

Sustained awareness campaign about the location of De Addiction
Centres must be carried on. Drug peddlers who target our vuneralable youth must be stringently punished severely, so that
they discontinue from drug peddling. Illegal possession and sale of drugs must be strictly prohibited. Those victims of drug abuse must be helped to get De addicted and lead a normal life. Identity of victims must be kept strictly confidential and protected. Every assistance should be provided to them.

K Kumar Birla 4 days 3 hours ago

1 first we need to know about that why peoples do the nasha and how we can get rid of.
2 we should open "Nasha Mukti Kendra" at every Village and make a qualified team to aware peoples about it and do treatment and monitoring about result.
3. reverence and devotion are the best way for peoples awareness.
4 Govt do the prizes those peoples which get rid of.
5 Government make a rule in every department those people do nasha he is not eligible for govt jobs
6 Nasha Mukt health certificate

AKASH BALI 4 days 6 hours ago

1.No liquor shops or pan masala shops within 500metres of targeted region

2.Install CCTVs in the sensitive areas.

3.Involve residential citizens in this mission,them can also monitor the CCTV footage of central station.

4.Strict law and penalty against those who found consuming prohibited products.

5.Formation of vigilance which will take help of common citizens.

6.Establishment of Nasha mukti kendras and educating them about the harms of addiction.

Baboosha Singh 1 week 2 days ago

Mai toh ye kahuni ki nasha hmare desh se hi mukat hona chahiye... Jb Nasha hmare desh me hi nahi milega toh "Nashamukt" ka sawal hi nahi uthata. Kaha jata hai jb hm sudhrenge tb desh sudhrega par aaj ka scenario dekh ke aesa nai lgta hai kyki bhut yuva nasha ki traf badhta hi jaa rha hai. Hum yha Narmada ke tatiya area hi kyu nashamukt kre hme pure desh ko hi nashamukt krna chahiye. Har ek insan jagruk hai par wo khud se kbhi suruat nai karta..Jai Hind