You don't have javascript enabled. Please Enabled javascript for better performance.

स्मार्ट सिटी भोपाल में गैर-मोटर चालित परिवहन पर चर्चा

स्मार्ट-सिटी मिशन में नॉन-मोटराइज्ड ट्रांसपोर्ट की शुरुआत करने ...

See details Hide details

स्मार्ट-सिटी मिशन में नॉन-मोटराइज्ड ट्रांसपोर्ट की शुरुआत करने वाला भोपाल देश का पहला ऐसा शहर है, जहां स्मार्ट पब्लिक बाइक शेयरिंग योजना सबसे पहले लागू की गई। इस योजना की शुरूआत में शहर में 50 साइकिल स्टेशन और 500 स्मार्ट साइकिल उपलब्ध कराई गईं।

एप, स्मार्ट-कार्ड, ई-लॉगइन-पिन या मोबाइल फोन से भुगतान करके साइकिल किराये पर ली जा सकती हैं । कम किराये और सहज उपलब्‍धता के चलते शहर में साइकिलिंग को प्रोत्साहन भी मिल रहा है और साइकिलिंग से शहर और शहरवासियों को प्रदूषण मुक्त पर्यावरण,साथ-साथ स्वास्थ्य लाभ और स्वच्छ शहर मिल रहा है।

इस लेख को लिखने का मुख्य उद्देश्य स्मार्ट सिटी, स्मार्ट परिवहन और पर्यावरण से संबंधित सबसे चुनौतीपूर्ण मुद्दों पर चर्चा करने के लिए अधिक संख्या में आम मंच प्रदान करना है। स्मार्ट सिटी और उसके क्रियान्वयन के बारे में आपकी टिप्पणी/सुझाव प्रदान करें। आप इस विषय पर अपने विचार व्यक्त कर सकते हैं कि सरकार द्वारा सुचारु रुप से चल रही इस पॉलिसी के अंतर्गत योजनओं को ओर बेहतर कैसे किया जा सकता है।

निम्नलिखित बिन्दुओ पर आपके सुझाव आमंत्रित किये जाते हैं:-
१- शहर मै और किन-किन स्थानों पर साईकल स्टेशन बनाना उचित होगा?
२- शहर मै और किन-किन स्थलों पर साईकल ट्रैक होना चाहिए?
३- पब्लिक बाइक शेयरिंग को बढावा देने के लिए और क्या-क्या उपयुक्त कदम उठाये जा सकते हैं?

प्रस्तुत करने की आख़री तिथि 31 अक्टूबर, 2017 है

All Comments
Reset
44 Record(s) Found

Kaushlendra Tiwari 6 days 3 hours ago

माननीय मुख्यमंत्री महोदय जी हम सब जानते हैं कि मोटर दो पहिया वाहन गाड़ी से निकलने वाला धुआं हमारे स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होता है लेकिन यह सब सुविधाओं के साधन है यदि इन चीजों को बंद किया जाए तो पब्लिक को बहुत परेशानी होगी यह बात जानते हुए भी हम कुछ नहीं कर सकते

Akshat Saxena 1 week 3 days ago

Most of the people can't use cycle during working hours due to time constraints, so the timing should match with their jogging time and the infrastructure like cycle track and stand should be at those places like Road towards Kaliyasot Dam and Kolar, Another places where BRTS Bus is not available like Shymala hills towards Museum. Last month's activity of 'Cyclegiri' was successful due to Sunday and Lake View Road which is a place of interest. Placing stand at VIP Road terminals is favourable.

Prabhat Kumar Gupta 1 week 5 days ago

साइकिल स्टैंड की नए भोपाल में जैसे पल्लवी नगर, दाना पानी रेस्तौरेंट के पास,औरा मॉल, गुलमोहर कॉलोनी, स्वर्णजयंती पार्क, शाहपुरा थाना, आकृति एकोसिटी में आवश्यकता है. यहाँ पर कॉलोनियों की बस स्टॉप से दूरी अधिक है एवं सुबह मोर्निंग वाक पर सैकड़ो नागरिक जाते हैं. अगर साइकिल स्टैंड बनता है तो हजारो लोगों को स्वस्थ्यलाभ मिलेगा |

Rajendra jatav 1 week 6 days ago

श्री माननीय
मुख्यमंत्री जी आपसे निवेदन है की सरकारी कर्मचारियों को लगभग 1 महीने में 10 दिन साइकिल से आना जाना चाहिए। और आप मध्यप्रदेश के सभी जिलो में कार्/बाइक लगभग 15 दिन हर महीने में बंद करने का आदेश दे । ताकि इससे प्रदुषण कम हो सके । 15 दिन साइकिल के हो जाए तो ईंधन भी बचेगा भविष्य के लिए।यही मेरा सुझाव है। धन्यवाद

DEVENDRA PAL SINGH DHAKED 2 weeks 7 hours ago

Initially consider to fix a day in a week or in a month as Cycle Day No use of Vehicle This will create awareness. If Possible consider to ban political & other vehicle rallies using bikes etc.

Sandeep Singh 2 weeks 12 hours ago

Sir,I think non-motorised suitable for short distance because nobody can't cycling 5km or 10km,so we use it in limited distance places like jk road-minal residency,jk road-anand nagar etc for 2 or 3 km distance.so every one is comfortable to use cycle.
Thanks

KAMESWARARAO TATA 2 weeks 1 day ago

First to ban more than 15 years all vehicles from road, No renewal 15 years or more, Divert long running vehicle though Ring road only,

rahul patel 2 weeks 1 day ago

१)सभी सरकारी कर्मचारियों (केंद्र एवं राज्य) को जिनका कार्यालय 5km या कम दूरी पर है उनका साइकल से कार्यालय जाना अनिवार्य किया जाए।
इससे स्वास्थ्य लाभ, प्रदूषण कम, सड़कों पर जाम कम होगा एवं पैसों की बचत होगी।
२)जिनका ऑफ़िस दूर है, मेट्रो ट्रेन की सुविधा होने के बाद मेट्रो ट्रेन से जाना अनिवार्य किया जाए।
३)इसकी शुरुआत मंत्री गण स्वयं करें।
४) यह समूह ४ से लेकर १ तक के सभी अधिकारियों एवं कर्मचारियों के लिए लागू किया जाए।

bhagwati 2 weeks 1 day ago

sir aaj hm swachh bharat ki baat krte he uske liye anhiyan bhi chala rhe he but swachhta k sath sath hme jal k liye bhi sochana chahiye. jis prakar gndgi hta rhe h usi prakar hm sb y bhi jante he ki hmari prathvi p pani 70% he but pine ka pani bhut hi kam matra m he .muze lgta h sbse jyada aane wale time m pani k liye jal sanrchan p abhiyan chalana hoga.